Main To Rang Lal Hun | मैं तो रंग लाल हूँ – Anjali Sevak

About Poetry

“मैं तो रंग लाल हूँ” is a poem by poet Anjali Sevak. The poem is a part of the “Naari Hai Narayani: Yatra Naryastu Pujyante” poetry compilation book published under the Shabd Vandana project on account of Women’s Parv 2023.


मैं तो रंग लाल हूँ

कल कल नदिया सी बहती रहती,
प्रकृति का श्रृंगार हूँ।
पर पानी सी साफ़ नहीं,
मैं तो रंग लाल हूँ।

लाल से ही जन्म है, लाल से ही जीवन,
लाल से ही जतन है, लाल से ही पतन।
श्रृष्टि को जीवंत रखती, मैं ईश्वर का वरदान हूँ।
फिर भी धर्म से होती हलाल,
क्योंकि मैं तो रंग लाल हूँ।

है बहना ही स्वभाव मेरा, आती जाती हर माह हूँ।
लाख यत्न भी बांध ना पाए, अवरोधों से होती आरपार हूँ।
भले फट जाए पर मिट ना पाए, मैं वो वीर गहरा दाग़ हूँ।
ना रुकने वाली मलाल हूँ मैं,
मैं तो रंग लाल हूँ।

ना मैं वो नदी जो शिखरों से बहती, शिखरों को ख़ुद में समाती हूँ।
हूँ मैं वो गुफ़ा जो स्वर्ग नर्क का एहसास तुम्हे कराती हूँ।
ना प्रकाश, मैं अंधकार से लिप्त, फिर भी दुनिया मैं ही दिखाती हूँ।
हूँ अवकाश मैं पर काला नहीं,
मैं तो रंग लाल हूँ।

ना पाप मैं, ना अपराध हूँ, ना मैं अश्लील तिरस्कार हूँ।
संसार नांव जिससे चल पाए, मैं तो वो पतवार हूँ।
जो समाज मुजे ठुकराए, करती मौन ललकार मैं,
वही समाज दर पर सर जुकाए, जब लेती कामाख्या अवतार हूँ।

चाहे कितना भी कोसे कोई,
पानी सी सरल प्रकार हूँ।
पानी सी जीवन दाता मैं भी,
पर मैं रंग लाल हूँ।


NOTE: The originality of the poetry is confirmed by the author. The author shall be responsible for any liability.


REFERENCES