Skip to content

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में कृप म्यूज़िक और गिव वाचा फाउंडेशन द्वारा भव्य आयोजन

  • by

तोलानी कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस आदिपुर कच्छ की रीडर्स एंड राइटर्स क्लब के सौजन्य से कृप म्यूजिक और Give Vacha Foundation द्वारा साहित्य सर्जकों के लिए एक अत्यंत सुंदर कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में महिलाओं को सम्मानित करने के लिए “वुमन्स पर्व 2023” का आयोजन कृप म्यूजिक और Give Vacha Foundation के संस्थापक ‌डॉक्टर कृपेश ठक्कर द्वारा किया गया। डॉ. कृपेश ठक्कर समृद्ध व्यक्तित्व के धनी हैं। चिकत्सक होने के साथ साथ वे भारतीय कला, संस्कृति और साहित्य के प्रति समर्पित हैं। आप एक लेखक हैं, गीतकार हैं, संगीतकार हैं, निर्देशक हैं और संतान के लिए सबसे अच्छे पिता हैं।

इस सुन्दर, सुव्यवस्थित कार्यक्रम के तहत

👉🏻 नारी है नारायणी पुस्तक विमोचन

👉🏻 कृप टोक्स नारी विषयक काव्य पठन

👉🏻 बातें अनकही विथ डॉ. कृपेश: बेस्ट सेलर बुक के लेखक आदरणीय डॉ. कृपेश ठक्कर के साथ

👉🏻 वुमनस पर्व 23 थीम सॉन्ग “यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते” का आगाज़ किया गया।

इस गीत की विशेषता यह है कि इसमें हिंदी के साथ-साथ संस्कृत में भी गायन करके भारतीय नारी के गौरव को विश्व तक पहुंचाने का उम्दा प्रयास किया गया है। इस गीत को डॉ. कृपेश ठक्कर ने स्वयं लिखा है, स्वयं ही संगीतबद्ध किया है और स्वयं ही अपने सुपुत्र 5 वर्षिय पर्व ठक्कर जो गूगल रैंकिंग अनुसार सबसे कम उम्र के गायक और अदाकार हैं और उनकी सुपुत्री 10 वर्षीय वाचा ठक्कर जो यंगेस्ट लेखिका और चेंज मेकर है के साथ गाया है। यह गीत कृप म्यूज़िक द्वारा विश्व भर मे २०० से अधिक स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म पर रिलीज़ किया गया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि कच्छ के प्रबुद्ध साहित्यकार डॉ.रमेश भट्ट ‘रश्मि’ जो राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित हैं और गीव वाचा फाऊन्डेशन के कम्युनिटी हेल्थ डिरेक्टर आदरणीय डॉ. पूजा ठक्कर जी रहे। कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. धर्मानी सर, महान कवयित्री कॉलेज की भाषा विभागाध्यक्ष सुश्री विम्मी सदारंगानी, संदीप जानी, डॉ. प्रतिक अंबासना और अंजलि सेवक के सहकार सहयोग से कार्यक्रम में चार चाँद लग गये।

कच्छ के सुप्रसिद्ध तोलानी कालेज की कई कवि हृदय छात्राओं तथा प्राध्यापिकाओ ने कृप टोक्स कार्यक्रम में महिलाओं के संदर्भ में बहुत ही मनमोहक और भावपूर्ण कवितायें सुनाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। इन कविताओं का संकलन नारी है नारायणी पुस्तक में प्रकाशित होगा। साहित्य क्षेत्र में प्रथम बार ऐसा हुआ है जहां स्कूल व कॉलेज के छात्रों को अपनी कविता प्रकाशित करने का अवसर मिला है।

तभी बातें अनकही विथ डॉ. कृपेश में जानें मानें गीतकार, संगीतकार और गायक डॉ. कृपेश ने फ़िल्मों और ऐल्बम में गाने लिखने की तकनीक से मेहमानों को परिचित कराया।

यह मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे भी इस भव्य आयोजन में सहभागिता का अवसर मिला। गिव वाचा फाउंडेशन और डॉक्टर कृपेश ठक्कर जी का तहे दिल से धन्यवाद

Article by: Padma Motwani